25.6 C
Ratlām

रतलाम : मूसलाधार बारिश को हुए 20 घण्टे, रतलाम में ऑरेंज अलर्ट

सैलाना केदारेश्वर झरना आया अपने मिज़ाज में, जिले में सावन के पहले दिन मूसलाधार बारिश, शहर में कई जगह जलभराव की स्थिति रही, भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, उज्जैन, ग्वालियर, सागर संभाग में भारी बारिश की चेतावनी

रतलाम : मूसलाधार बारिश को हुए 20 घण्टे, रतलाम में ऑरेंज अलर्ट
Kedareshwar Rain Fall in Sailana (Pic IndiaMix : 25/07/2021)

रतलाम/इंडियामिक्स : सावन के पहले दिन ही जिला तरबतर हो चुका है। कल गुरु पुर्णिमा की रात 8 बजे से शुरू हुई मूसलाधार बारिश अब जा कर थोड़ी रुकी है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक बंगाल की खाड़ी से आगे बढ़ा कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में उत्तरी मध्यप्रदेश के मध्य में बना हुआ है। मानसून ट्रफ भी मध्यप्रदेश से होकर गुजर रहा है। इसी कारण कल शनिवार रात्रि से शुरू हुई बारिश लगातार अब तक जारी है। इसको देखते हुए मौसम विभाग ने रतलाम जिले में भी भारी वर्षा यानी ऑरेंज अलर्ट घोषित किया है। यह सिलसिला मंगलवार तक जारी रह सकता है।

रतलाम के आसपास जल स्त्रोत वाले क्षेत्रों में रौनक आ गयी है। जिससे बड़ी सँख्या में लोग वहाँ पहुँच रहे है। लगातार बारिश को देखते हुए प्रशासन भी मुस्तेद हो गया है। पुलिस अधीक्षक ने सुरक्षा की दृष्टि से जल स्थल वाले पर्यटक क्षेत्रो में जवानों को तैनात कर दिया है। लोगो से भी अपील की है कि वे सावधानी रखें। रतलाम का प्रसिद्ध सैलाना स्थित केदारेश्वर झरना इस समय उफान पर है। यह बहुत समय बाद एक बार की बारिश में उफान पर आया है। सीवरेज के कार्य के बाद इस लगातार तेज बारिश के कारण कई क्षेत्रों में जल भराव भी हुआ जिसका निकास न होना सीवरेज के फेल होने को दर्शाता है।

मौसम विज्ञान केंद्र ने भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद, उज्जैन, ग्वालियर, सागर संभाग में भारी बारिश की चेतावनी (ऑरेंज अलर्ट) जारी की है। इन क्षेत्रों में रविवार-सोमवार को कहीं-कहीं 115 मिलीमीटर या उससे अधिक बारिश भी हो सकती है।

रतलाम : मूसलाधार बारिश को हुए 20 घण्टे, रतलाम में ऑरेंज अलर्ट
Choked Road By Drains

क्या कहा एक्सपर्ट ने :-

मौसम विज्ञानी पीके साहा ने बताया कि पूरे प्रदेश में रुक-रुक कर बारिश का सिलिसला बना हुआ है। वर्तमान में बने वेदर सिस्टम के कारण बंगाल की खाड़ी के अलावा अरब सागर से भी नमी मिल रही है। इससे अच्छी बरसात हो रही है। वर्तमान में कम दबाव के क्षेत्र के उत्तरी मप्र के मध्य में बने रहने से पश्चिमी मप्र के जिलों में बरसात हो रही है।

हालांकि अब पूर्वी मप्र में बारिश की गतिविधियों में कुछ कमी आएगी। उधर 28 जुलाई को बंगाल की खाड़ी में एक अन्य कम दबाव का क्षेत्र बनने जा रहा है। इसके बाद एक बार फिर बारिश की गतिविधियां पूरे प्रदेश में तेज होने लगेंगी।

जिले में बारिश की स्थिति :-

जिले में अब तक 312.6 मिलीमीटर (साढ़े 12 इंच) वर्षा दर्ज की गई। गत वर्ष इस अवधि तक औसत 346.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई थी। इस अवधि तक गत वर्ष की तुलना में जिला 33. 8 मिलीमीटर औसत वर्षा से पीछे है।

जिले में गत 24 घंटो के दौरान रविवार सुबह 8.00 बजे तक औसत 56.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। आलोट में 66 मिलीमीटर, जावरा में 51 मिलीमीटर, ताल में 135 मिलीमीटर, पिपलौदा में 36 मिलीमीटर, बाजना में 18 मिलीमीटर, रतलाम में 27 मिलीमीटर, रावटी में 43.8 तथा सैलाना में 76 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। उल्लेखनीय है कि रतलाम जिले की सामान्य वर्षा 918.3 मिलीमीटर है।

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Name
Latest news
Related news