25.6 C
Ratlām

मध्यप्रदेश : “यह घर बिकाऊ है” आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ?

दोपहर में मामला संज्ञान में आने के बाद रतलाम अपर कलेक्टर एम एल आर्य ने कहा की गांव में सभी लोग भाईचारे के साथ रहते हैं। जांच दल बनाकर गांव में भेजा जाएगा और लोगो से बातचीत कर समाधान किया जाएगा

मध्यप्रदेश : &Quot;यह घर बिकाऊ है&Quot; आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ?
इस तरह लिखा घरो के बाहर.

मध्यप्रदेश/इंडियामिक्स : मध्यप्रदेश के जिले रतलाम में चोंका देने वाला मामला सामने आया है। मामला मुस्लिम बहुल गांव से हिन्दूओ के पलायन से जुड़ा है। इससे पहले यह जान लेना भी जरूरी है, कि वर्तमान में प्रदेश से लेकर ग्रामीण तक में एक छत्र भगवाधारी कहे जाने वाली भाजपा की सत्ता है। इसके बाद यह घटना सुनकर देश व प्रदेश में सभी हैरान है। मामले में अब तक कोई ठोस प्रतिक्रिया सत्ताधारी सांसद, विधायक और किसी भी मंत्री से प्राप्त नहीं हुई।

यह मध्यप्रदेश का पहला ऐसा मामला हैं जहां पलायन की बात सामने आई है। इससे पहले प्रदेश में कहीं ऐसा सुनने को नहीं मिला है। इस मामले के बाद प्रदेश में साम्प्रदायिक राजनीति एक नया रूप ले सकती है।


दोपहर में मामला संज्ञान में आने के बाद रतलाम अपर कलेक्टर एम एल आर्य ने कहा की गांव में सभी लोग भाईचारे के साथ रहते हैं। जांच दल बनाकर गांव में भेजा जाएगा और लोगो से बातचीत कर समाधान किया जाएगा। वहीं संवेदनशील दिखाई पड़ते इस मुद्दे के सामने आने के 6 घण्टे बाद भी कोई जांच दल या सत्ताधारी नेता अब तक गांव नहीं पहुंचा। हालांकि ग्रामीणों से मालूम हुआ कि ज्ञापन देने के बाद कुछ पुलिसकर्मी गांव में आये थे और भ्रमण कर चले गए।

इसी गांव सुराणा में रात 9 बजे के लगभग गांव के हिन्दूओ ने अपने घरों के बाहर “यह घर बिकाऊ है”, “हम मुस्लिम समाज और प्रशासन से पीड़ित है” आदि लिख दिया। यह घटना देख सोशल मीडिया पर इस गांव की तुलना उत्तरप्रदेश के कैराना से की जाने लगी। गौरतलब है कि यूपी के कैराना में हिन्दूओ के पलायन का मामला ख़ूब सुर्खियो में रहा है। वहां भी पलायन कर रहे हिन्दूओ ने इसी तरह अपने घर के बाहर लिख कर घरों को छोड़ा था।

गांव सुराणा के ग्रामीणों का आरोप है की पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने आज उनकी समस्या नहीं सुनी और उन्हें रवाना कर दिया। जिसके बाद उन्हें पलायन का फैसला लेना पड़ा। मामले में आरोपो पर रतलाम एसपी गौरव तिवारी की ओर से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई।


दिलचस्प बात यह है कि कलेक्टर को ज्ञापन देने के पूर्व ग्रामीण रतलाम के भाजपा जिलाध्यक्ष राजेन्द्रसिंह लुनेरा के पास पहुंचे। जहां से लुनेरा ने एसपी गौरव तिवारी से बातचीत कर ग्रामीणों के मिलने की बात कही, जिसके बाद ग्रामीण एसपी के दफ्तर पहुंचे थे और वहां एसपी ने उनकी बात सुनकर उन्हें ही कसूरवार ठहरा दिया।


सूत्रों के अनुसार सुराणा के हिन्दूओ ने गांव छोड़कर शहर में आने का पूरा मन बना लिया है। 3 दिन बाद सभी वहां से घर खाली कर शहर की ओर आने वाले हैं। ऐसा अगर होता है तो मामला ओर गहराता जाएगा। फिलहाल शासन और प्रशासन दोनों की ओर से कोई ठोस प्रतिक्रिया मामले में नहीं आई।

यह है मामला :

दरअसल गांव सुराणा के हिंदू रहवासियों ने गांव में रह रहे वर्ग विशेष लोगों से परेशान होकर तीन दिन में परिवार सहित गांव खाली करने की चेतावनी दी है। मंगलवार दोपहर में ग्रामीण जब समस्या लेकर एसपी गौरव तिवारी के पास पहुंचे तो सुनवाई नहीं हुई तो ग्रामीण कलेक्टोरेट पहुंचे और कलेक्टर के नाम ज्ञापन एसडीएम अभिषेक गेहलोत को सौंपकर गांव छोडकर अन्य दूसरी जगह बसने की लिए पट्टे की मांग की।
ग्रामीणों ने मीडिया को बताया कि गांव में हम लोग शांति सद्भाव से रहना चाहते है लेकिन आए दिन हिंदू युवाओं से गाली गलोच, व जान से मारने की धमकी व मारपीट की जाती है। पुलिस में जब शिकायत करते है तो उल्टा र्कारवाई कर दी जाती है। मंगलवार को रतलाम ग्रामीण विधायक दिलीप मकवाना और भाजपा जिलाध्यक्ष राजेंद्रसिंह लुनेरा को सारी समस्या से अवगत कराया। लुनेरा द्वारा एसपी से चर्चा कर मिलने को कहा। जब हम लोग मिलने गए तो उन्होंने बात नहीं सुनते हुए उल्टे उन्हीं पर र्कारवाई करने की चेतावनी दे दी।

पिछले दो साल से शुरू हुआ :

ग्रामीणों का कहना था की गांव की आबादी का 60 प्रतिशत मुस्लिम व 40 प्रतिशत हिंदू आबादी है जो भाई चारे से कई पीढियों से रह रहे थे, लेकिन पिछले दो तीन वर्षों से विधर्मी मानसिकता हमारे गांव में आई है और हमारे गांव में हिंदू युवाओं के साथ गाली गलोच, मारपीट व धमकी जैसी घटनाएं आए दिन घटित हो रही है। जिस पर हमने हमेशा कानून पर भरोसा रखकर पुलिस थाना और पुलिस अधीक्षक के समक्ष कई बार अपनी बात रखी, लेकिन हमेशा हिंदू युवाओं पर ही झूठी एफआइआर हुई।

मध्यप्रदेश : &Quot;यह घर बिकाऊ है&Quot; आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ?
मध्यप्रदेश : "यह घर बिकाऊ है" आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ? 4

हम शांति चाहते हैं :

ग्रामीणों का कहना था कि हमारे गांव का एक दल शांति स्थापित करना चाहता है, लेकिन हमारी बात सुने बगैर डरा धमका कर रासुका, जिलाबदर, और मकान गिराने की धमकी दे दी। इस कारण हम भयभीत है और हम अपना गांव अपनी संपत्ति प्रशासन को सुपुर्द कर अन्य जगह पर स्थापित होना चाहते हैं ताकि हमारी आने वाली हिंदू युवा पीढ़ी सुरक्षित रह रह सके।

एसपी के व्यवहार से ग्रामीण आक्रोशित थे। कलेक्टोरेट में पुलिस प्रशासन व एसपी के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। इस दौरान गांव के भरतलाल, मुकेश जाट, कंवरलाल जाट, विनोद, राधेश्याम, भेरूलाल, मांगीलाल, गोपाल जाट, आशीष सोनी, प्रकाश सांवरिया सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

मध्यप्रदेश : &Quot;यह घर बिकाऊ है&Quot; आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ?
मध्यप्रदेश : "यह घर बिकाऊ है" आख़िर मध्यप्रदेश के रतलाम जिले में हिन्दूओ ने घरों के बाहर क्यो लिखा ऐसा ? 5
Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Name
Latest news
Related news