16 C
Ratlām

जयपुर : खोनागोरियां में निजी अस्पताल के बाहर “लूट” की वारदात, दो गिरफ्तार

क्राइम सीरियल से सिखी लूट, मरीज के परिजन की रेकी की, सिर पर डंडा मार लूटा, चाकू दिखाकर पैसे मांगे, मना किया तो दूसरे ने सिर पर पीछे से किया बार, पीड़ित को मृत समझ 29 हजार, मोबाइल और चेन लूटी

जयपुर : खोनागोरियां में निजी अस्पताल के बाहर &Quot;लूट&Quot; की वारदात, दो गिरफ्तार
जयपुर : खोनागोरियां में निजी अस्पताल के बाहर "लूट" की वारदात, दो गिरफ्तार 2

जयपुर– खोनागोरियां इलाके में क्राइम सीरियल देख हॉस्पिटल के बाहर मरीज के परिजन को चिन्हित करने के बाद मारपीट पैसे व चेन लूटने के मामले में पुलिस ने रविवार को दो आरोपियों को पकड़ लिया। गिरफ्तार आरोपी सूरज कुमार भावगढबधा व लवलेश कुमार उर्फ लेकर दोसा के महुआ के रहने वाले हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपी के कब्जे से वारदात के लिए काम ली गई बाइक, मोबाइल, चाकू वे दस्तावेज बरामद कर लिए।लूट गए पैसों के संबंध में जांच की जा रही है थाना अधिकारी भवानी सिंह ने बताया कि बदमाशों ने शुक्रवार रात को जेएनयू हॉस्पिटल के बाहर खाने के ढाबे के पास भरतपुर के भुसावर निवासी घनश्याम मीणा को चाकू दिखाकर पैसे मांगे। मना किया तो दूसरे साथी ने सिर्फ डंडा मार बेहोश करने के बाद जेब से 29 हजार रुपए, पर्स, मोबाइल, व गले से चेन लेकर भाग गए। इस संबंध में उनके भाई रावल कुमार ने शनिवार को थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है।


जूतों के निशान और बाइक की पहचान से बदमाशों तक पहुंची पुलिस


डीसीपी अभिजीत सिंह ने बताया कि पुलिस टीमों ने दुर्घटना स्थल का निरीक्षण किया तो सामने आया कि बदमाशों के जूतों के निशान सामने आए और आसपास पूछताछ की तो लोगों ने बाइक की पहचान बताएं। उसके बाद बदमाशों को पकड़ने के लिए विशेष टीम का गठन किया था, जिन्होंने आसपास की कॉलोनियों में लोगों को जूतों के बारे में पूछताछ शुरू कर दी। इस दौरान हेड कांस्टेबल रत्तीराम ने जूतों के निशान के आधार पर एक युवक की पहचान कर ली। मौके पर पहुंचकर दबिश दी दोनों युवक मिल गए।दोनों को पकड़ कर थाने लाकर पूछताछ की तो वारदात करना कबूल लिया।

मृत समझकर छोड़ गए


बदमाशों ने पूछताछ में बताया कि मारपीट के दौरान घनश्याम बेहोश हो गया। बदमाश उसके मृत समझकर भाग गए थे। समय रहते सूचना मिलने पर पुलिस ने घायल को हॉस्पिटल में भर्ती करवा दिया था। घनश्याम अभी हॉस्पिटल में भर्ती है.

दोस्त के साथ आया था


एसीपी महेंद्र कुमार ने बताया कि पीड़ित घनश्याम अपने दोस्त चंद्रभान मीणा का इलाज करवाने के लिए जयपुर आया था। शुक्रवार शाम को वह बाहर ढाबे पर खाना ऑर्डर करने के फोन पर बात कर रहे थे। इसी दौरान बदमाशों ने उन्हें चिन्हित कर वारदात की।

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Name
Latest news
Related news