26.2 C
Ratlām

UP : दिग्गज कांग्रेसी नेता जितिन के बीजेपी का दामन थामना से, कांग्रेस के मिशन-2022 को करारा झटका

भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करते समय भी जितिन यह बात छिपा नहीं पाए कि कांग्रेस में उनकी अनदेखी की जा रही थी। जितिन प्रसाद को प्रियंका वाड्रा का करीबी माना जाता था।

Up : दिग्गज कांग्रेसी नेता जितिन के बीजेपी का दामन थामना से, कांग्रेस के मिशन-2022 को करारा झटका

लखनऊ/इंडियामिक्स उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की आहट सुनाई देते ही नेताओं के पाला बदलने का खेल शुरू हो गया है। आज कांगे्रस के दिग्गज नेता और गांधी परिवार के काफी करीबी रहे जितेन्द्र प्रसाद के पुत्र जितिन प्रसाद ने दिल्ली में  भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली।मूल रूप से शाहजहापुर निवासी जितिन प्रसाद कांगे्रस के दिग्गज ब्राहमण नेता थे और 2004 में लोकसभा चुनाव जीतने के साथ ही मनमोहन सरकार में मंत्री भी रह चुके थे। लेकिन इधर कुछ वर्षो से कांगे्रस आलाकमान जितिन प्रसाद को कोई अहमियत नहीं दे रही थी।इसी के चलते पहले भी वर्ष 2019 में भी जितिन के कांगे्रस छोड़ने की खबरें उड़ी थीं,लेकिन तब जितिन ने ऐसी खबरों का खंडन कर दिया था।

भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण करते समय भी जितिन यह बात छिपा नहीं पाए कि कांगे्रस में उनकी अनदेखी की जा रही थी।जितिन प्रसाद को प्रियंका वाड्रा का करीबी माना जाता था। कहा जाता था कि 2019 में जितिन प्रसाद बीजेपी में शामिल होने के लिए दिल्ली रवाना हो चुके थे, लेकिन यूपी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उन्हें फोन कर मना लिया और प्रसाद रास्ते से लौट गए। इस बार जितिन प्रसाद ने बीजेपी  की सदस्यता ग्रहण करने से पूर्व अपना फोन बंद कर रखा था।बीजेपी आलाकमान यूपी में जितिन प्रसाद को ब्राहमण नेता के रूप में प्रोजेक्ट कर सकती है,अभी तक यूपी बीजेपी में जितिन के कद का ऐसा कोई नेता नहीं मौजूद है जिसका अपना जनाधार हो। जितिन ब्राह्मणों के बड़े नेता माने जाते हैं और यूपी में ब्राह्मण मतदाताओं की 10 फीसदी की बड़ी हिस्सेदारी है।
   जितिन प्रसाद की भारतीय जनता पार्टी में क्या भूमिका रहेगी,इसका अंदाजा केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल जिन्होंने जितिन को बीजेपी मुख्यालय में पार्टी की सदस्यता दिलाई के जितिन को लेकर दिए बयान से लगाई जा सकती है।

पीयूष गोयल ने  जितिन प्रसाद को उत्तर प्रदेश का बड़ा नेता बताया और कहा कि यूपी की राजनीति में प्रसाद की बड़ी भूमिका होने वाली है। गोयल ने उत्तर प्रदेश की जनता के हित में जितिन प्रसाद के किए गए कामों का भी उल्लेख किया और कहा कि उनके आने से यूपी में बीजेपी का हाथ और मजबूत हुआ है।बीजेपी ने अबकी बार जितिन को पार्टी में लाने का मिशन काफी गुप्त रखा था। इसी लिए कहीं कोई सुगबुगाहट नहीं हुई। कांग्रेस पार्टी को बड़ा झटका लगने की आशंका आज बीजेपी नेता अनिल बलूनी के एक ट्वीट के साथ जताई जाने लगी। उन्होंने कहा था कि आज एक दिग्गज शख्सियत दोपहर 1 बजे पार्टी में शामिल होगी। उनके इस ट्वीट के साथ ही कयासों का बाजार गर्म हो गया। कुछ ही घंटे में संभावनाओं के बादल छंट गए और जितिन प्रसाद के नाम का नाम सामने आ गया। जितिन भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के पूर्व केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल के दिल्ली स्थित आवास पहुंच गए थे और वहां थोड़ी देर रुकने के बाद सीधे केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के घर गए। जितिन प्रसाद ने तय कार्यक्रम के मुताबिक बीजेपी मुख्यालय में कमल का दामन थाम लिया। उन्हें केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बीजेपी की सदस्यता दिलाई।

    बताते चलें पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने कांग्रेस के नेतृत्व में बदलाव और इसे और ज्यादा सजीव बनाने के लिए पत्र लिखा था। यूपी में इसको लेकर कुछ नेताओं ने विरोध भी किया था। उन्होंने बीजेपी की सदस्यता लेने के बाद भी कांग्रेस पार्टी पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की राजनीति लोगों का भला करने की नहीं रही है।

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Name
Latest news
Related news