जयपुर : परकोटे में अतिक्रमण, प्रशासन नहीं बचा पा रहा बिल्डिंग बाइलॉज की लाज

A+A-
Reset
google news

कुछ महीने में ही ऐसे कई निर्माण हो गए हैं उन्हें अवैध मानते हुए हेरिटेज नगर निगम की सतकता शाखा ने कुछ सीज भी किए लेकिन प्रभावी कार्रवाई के अभाव में अतिक्रमण लगातार पसार रहे हैं

जयपुर : परकोटे में अतिक्रमण, प्रशासन नहीं बचा पा रहा बिल्डिंग बाइलॉज की लाज

जयपुर : विश्व पर विरासत में सोमवार परकोटे में नया निर्माण रोकने और ऐतिहासिक इमारतों को संरक्षित करने के लिए राज सरकार ने नए बिल्डिंग बाइलॉज लागू तो कर दिए लेकिन इन नियमों की पालना पर किसी का ध्यान नहीं है ऐसे में अति कर्मी परकोटे में धड़ल्ले से नए निर्माण के अलावा परकोटे की दीवारों से लेकर मुख्य बाजार की दुकानों में तहखाने तक खोद रहे हैं।


कुछ महीने में ही ऐसे कई निर्माण हो गए हैं उन्हें अवैध मानते हुए हेरिटेज नगर निगम की सतकता शाखा ने कुछ सीज भी किए लेकिन प्रभावी कार्रवाई के अभाव में अतिक्रमण लगातार पसार रहे हैं ऐसे निर्माणों से न सिर्फ परकोटे के ऐतिहासिक इमारतों को नुकसान पहुंचा रहा है बल्कि आने वाले समय में विश्व विरासत पर खतरा भी बढ़ रहा है जुलाई 2020 में परकोटे संरक्षण के लिए वर्ल्ड सिटी कंजर्वेशन एंड प्रोटेक्शन प्रोटेक्शन लागू कर दिए इसमें नए निर्माण से लेकर मरम्मत कराने के लिए अनुमति लेने का प्रावधान किया गया। ऐतिहासिक शहर का रखरखाव बेहतर तरीके से हो सके इसके लिए तीन कमेटी भी गठित की गई

यह नियम साबित हो रहे कागजी


हेरिटेज कमेटी की अनुमति के बिना निर्माण नहीं हो पाएगा मुख्य बाजारों के दोनों तरफ स्थित भवनों के निर्माण और पुणे निर्माणों के लिए 3 समितियों की अनुमति लेना जरूरी है।यह कमेटी हेरिटेज प्रकोष्ठ टेक्निकल एडिटेज कमेटी और भवन निर्माण एवं सकमसमिति से अनुमति लेना जरूरी होगा, अंदरूनी गलियों और मुख्य बाजारों को छोड़कर दूसरी जगह पर भवन निर्माण और पुनर्निर्माण के लिए हेरिटेज प्रकोष्ठ और भवन निर्माण और सकम समिति की अनुमति लेना जरूरी होगा, राष्ट्रीय और राजस्थान की इमारत पर निर्माण या पुनर्निर्माण के लिए राज्य स्तरीय हेरिटेज कमेटी से अनुमति लेना अनिवार्य होता है

यह है प्रक्रिया


भवन स्वामी को जोन कार्यालय में निर्माण और पुनर्निर्माण के लिए आवेदन करना होगा जॉन कार्यालय में भूखंड स्वामित्व की जांच होगी और जांच के बाद फाइल हेरिटेज प्रकोष्ठ को भेज दी जाएगी जांच के बाद फाइल टेक्निकल हेरिटेज कमेटी भेजी जाएगी। जहां से अनुमति के बाद फाइल को भवन निर्माण एवं संक्रम समिति को भिजवाया जाएगा जहां से फाइल को जोन कार्यालय में भेजा जाएगा और राशि जमा कराने के बाद निर्माण की अनुमति दी जाएगी। अंदरूनी गलियों में अनुमति में केवल टेक्निकल हेरिटेज कमेटी का रोल नहीं होगा समिति का गठन नहीं होने की वजह से फाइल अनुमोदन के लिए महापौर तक जाएगी

छूट का भी कोई फायदा नहीं


नई बिल्डिंग बाइलॉज में लोग संरक्षण को बढ़ावा दें इसके लिए कर में छूट देने का भी प्रावधान किया है। इसमें मनोरंजन कर स्टांप ड्यूटी से लेकर भूमि चार्ज में छूट का प्रस्ताव है इनका इलाज को पर्यटन प्रोजेक्ट के समकक्ष माना गया था क्योंकि परकोटे का बाजार और हवेलियां हमेशा से ही पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र रही है।


भूतपूर्व पार्षद सियाराम जैन ने अतिक्रमण की शिकायत की तो महापौर ने ध्यान दिया और आयुक्त हेरिटेज नगर निगम लोक बंधु ने ध्यान दिया ब्रह्मपुरी थाने के सामने फकीरो की डूंगरी के अंदर भूमियों पर निर्माण चल रहा है इन बिल्डिंगों में मंजिल तक चढ़ा दी गई हैं शिकायत करने के बाद भी और ज्ञापन देने के बाद भी निगम प्रशासन सोई हुई है और ना ही कोई कार्यवाही की गई हवामहल , आमिर जोन नगर निगम हेरिटेज अवैध निर्माण को ध्वस्त कराने हेतु वार्ड नंबर 21 में कई स्थानों पर अवैध निर्माण कराने की शिकायत आ रही है एक नंबर हनुमान टॉक प्लॉट नंबर 30 कृष्णापुरी सीतारामपुरी जयपुर, दूसरी शिकायत सतीश अग्रवाल ध्रुव बाल निकेतन के सामने अयोध्या पथ जयपुर, प्लॉट नंबर 207 महादेव नगर के पास कृष्णा पुरी जयपुर


नगर निगम निर्माण कार्य को रोका जाए एवं सीट ध्वस्त करने की कार्रवाई की जाए हेरिटेज की खूबसूरती खराब हो रही है गलियों में इतनी बड़ी बिल्डिंग के हिसाब से मैं तो सिविल लाइन की सुविधा है इस कारण बाढ़ में परेशानी बढ़ रही है वार्ड वासियों को पहले भी लिखित में आपको सूचित किया था नगर निगम शिकायत तो सुन लेती है लेकिन पल्ला झाड़ लेती है निगम से जुड़े अधिकारी पैसा खाकर अपनी मुंह बंद कर लेते हैं और शिकायत पर शिकायत पर आश्वासन दिया जाता है

यह है इनके जिम्मेदार


लोक बंधु आयुक्त हेरिटेज नगर निगम
रामकिशोर मीणा उपायुक्त किशनपोल जोन
सुरेंद्र यादव उपायुक्त हवामहल जोन

Rating
5/5

 

इंडिया मिक्स मीडिया नेटवर्क २०१८ से अपने वेब पोर्टल (www.indiamix.in )  के माध्यम से अपने पाठको तक प्रदेश के साथ देश दुनिया की खबरे पहुंचा रहा है. आगे भी आपके विश्वास के साथ आपकी सेवा करते रहेंगे

Registration 

RNI : MPHIN/2021/79988

MSME : UDYAM-MP-37-0000684

मुकेश धभाई

संपादक, इंडियामिक्स मीडिया नेटवर्क संपर्क : +91-8989821010

©2018-2023 IndiaMIX Media Network. All Right Reserved. Designed and Developed by Mukesh Dhabhai

-
00:00
00:00
Update Required Flash plugin
-
00:00
00:00