16 C
Ratlām

पुलिसवाले के साथ मिल कर दम्पत्ति चला रहें थें हनीट्रैप (Honeytrap) गैंग, अब पुलिस की गिरफ्त में

महिला लोगों को बलात्कार के केस में फंसाने का खौफ दिखा वसूलती थी मोटी रकम 

पुलिसवाले के साथ मिल कर दम्पत्ति चला रहें थें हनीट्रैप (Honeytrap) गैंग, अब पुलिस की गिरफ्त में
पुलिसवाले के साथ मिल कर दम्पत्ति चला रहें थें हनीट्रैप (Honeytrap) गैंग, अब पुलिस की गिरफ्त में 2

भोपाल: टीटी नगर पुलिस द्वारा बलात्कार के केस में फंसाकर ब्लैकमेल करने वाले एक गिरोह का खुलासा किया गया। इस मामले में पुलिस ने एक दंपति को गिरफ्तार किया है। दंपति एक पुलिसकर्मी के साथ मिलकर हनीट्रैप गैंग चला रहे थे। जिसकी  शिकायत एक प्रॉपर्टी डीलर द्वारा की थी। इससे पहले भी  यह महिला रातीबड़ में एक अन्य प्रॉपर्टी डीलर के खिलाफ भी बलात्कार का केस दर्ज करवा चुकी है ।

टीटी नगर पुलिस से मिली जानकारी के अमुसार कमला नगर निवासी ओमसिंह भदौरिया (41) प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करते हैं। उनका जवाहर चौक के पास ऑफिस है। लगभग एक वर्ष पहले एक दोस्त के कहने पर उन्होंने 30 वर्षीय महिला बरखा (बदला हुआ नाम) को अपने कार्यालय में काम पर रखा था। बताया जा रहा  है कि प्रॉपर्टी डीलिंग का काम ठीक से नहीं चलने के कारण उन्होंने मार्च 2023 में बरखा को काम से निकाल दिया था, जिससे वह नाराज हो गई थी। एक महीने पहले 7 जून को बरखा ने टीटी नगर थाने में ओमसिंह भदौरिया के खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज करवाई। इसकी जानकारी जब भदौरिया को मिली, तो वह और उनके दोस्त थाने पहुंचे और झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने से रोकने का प्रयास किया । इस पर थाने के बाहर बरखा, उसका पति बादल सिंह और एक अन्य सहयोगी गोपाल सिंह ने उनसे बातचीत की। तब बरखा ने भदौरिया से 50 लाख रुपए नकद और एक प्लॉट देने की मांग रखी थी। उस समय भदौरिया के परिजनों ने महिला और उसके पति को पांच लाख रुपये नकद दिए और प्लॉट की लिखा-पढ़ी की, जिसके बाद बरखा ने अपनी शिकायत वापस ले ली। भदौरिया ने समझदारी दिखाते हुए इस लेनदेन का एक वीडियो बना लिया था। 

पिछले कुछ दिनों से बरखा प्लॉट की रजिस्ट्री करवाने का उन पर दबाव डाल रही थी, जिससे परेशान होकर भदौरिया ने उसके विरुद्ध शिकायत की। जिसपर पुलिस ने तीनों के खिलाफ ब्लैकमेलिंग सहित अन्य धाराओं के अंतर्गत केस दर्ज कर दंपति को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार, प्रारंभिक पूछताछ में पता चला है कि यह दंपति अमीर लोगों को अपना शिकार बनाता था और बलात्कार के केस में फंसाने की धमकी देकर मोटी रकम वसूल करता था। इस मामले में फरार आरोपी की गिरफ्तारी के बाद कुछ और खुलासे हो सकतें हैं ।

3 दिन पहले रातीबड़ थाने में भी दर्ज कराई थी रिपोर्ट 

पुलिस से मिली सूचना के अनुसार, शुरूआती जांच में पता चला है कि तीसरा आरोपी गोपाल सिंह पुलिस कर्मचारी है। जिसकी तलाश की जा रही है । यह भी पता चला है कि महिला ने तीन दिन पहले रातीबड़ इलाके में एक अन्य प्रॉपर्टी डीलर के विरुद्ध भी बलात्कार की रिपोर्ट दर्ज करवाई थी । यह रिपोर्ट सामने आने के बाद ही पूरे मामले का खुलासा हुआ । 

रातीबड़ थाना प्रभारी लापरवाही के आरोप में लाइन अटैच

रातीबड़ थाना प्रभारी जयहिंद शर्मा को शनिवार को काम में लापरवाही बरतने के आरोप में लाइन अटैच कर दिया गया। उल्लेखनीय  है कि इसके पहले इसी थाने में इंस्पेक्टर रहे वीरेंद्र सिंह चौहान ने राजनीतिक दबाव के चलते स्वयं ही थाना छोड़ दिया था । शर्मा के विरुद्ध हुई इस कार्यवाही को इसी मामले से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि उन पर यह कार्यवाही प्रशासनिक कारणों से की गई है।

Please enable JavaScript in your browser to complete this form.
Name
Latest news
Related news